हिमालय की गोद से

हिमालय  की  गोद  से
बहुत खुबसूरत है आशियाना मेरा ,है यही स्वर्ग मेरा,मेरु मुलुक मेरु देश

Tuesday, January 11, 2011

क्या फटीं चा ?

                                                क्या फटीं चा ?


छैलू अखिल भारतीय चिकित्सा संस्थान दिल्ली  मा डाक्टरी की पढ़ये  कन्नू छाई | छोटंम भटेय ही  पढ़यी मा चंट हुणा का दगडी छैलू एक भोत ही सभ्य और जागरूक सामाजिक नौनु भी छाई |गौं का स्कूल से कक्षा पांच पास करणा का बाद छैलू  छात्रवृति फर गुमखाल और वे का बाद कोटद्वार चली ग्या छाई | छैलू कु बुबा किसान छाई  और कुछ  साल पहली ही गुजर ग्या छाई , छैलू  की मा त बिचरी वेकु मुख भी नि देखि साकी और वे थेय जलम दयेकी ही  स्वर्ग सिधार ग्या छाई | लोग बोल्दीन की अगर गौं का नजदीक मा अस्पताल हुन्दु ता आज छैलू बिन स्यें-गुस्यें और बिन ब्वे-बाबू  कु नौनु नि हुन्दु   | पर क्या कन्न ? जैका भाग मा जू लिखूं व्हालू वेल उत देख्णु ही च ना |

छैलू हमेशा की चराह ऐन्सू का साल भी खूब मेहनत कन्नू छाई और  ये  साल भी वरीयता सूचि मा पैलू नम्बर खुण दिन रात एक कन्नु छाई,ये चक्कर मा अज्काल वे थेय न अपड़ा खाण-पीण की चिंता छाई और ना आराम की | आखिर  भोल वेकि अंतिम परीक्षा जू छाई | पढ्दा -पढ्दा छैलू अचाणचक से सुपिन्यों मा सी ख्व्ये ग्या ,सम्लौंण  लग्गी ग्या अपड़ा खैरी और विपदा का दिनों थेय ,अपड़ी अणदेख्यीं ब्वे थेय और अपड़ा लाचार बुबा थेय | अच्छा और सुखिला दिनों थेय वू  याद करण ही वलू छाई की तब्भी कैल वेक कमरा का द्वार भिचोल दयीं और दगडा- दगडी भिचोल दयीं  वेंका कुछ अरमान |

द्वार ख्वलीं ता होस्टल कु डाकिया शम्भू  हत्थ  मा एक लिफफा लेकि खड़ू हुंयु छाई


शम्भू : शैल भाई आपका कार्ड आया है पहाड़ से
छैलू   : अरे शम्भू कैसे हो भाई ? कैसी चल रही है आपके लडके की पढाई आजकल
शम्भू : जी भईया  बस दुआ है प्रभु  की और आपके आशीर्वाद  से लड़का भी ठीक ठाक से पड ही रहा है
छैलू   : अरे गावं से आया है शादी का कार्ड ,शादी है ताऊ जी के लडके की
शम्भू : चलिए भैया जी आप कीजीये अपनी परीक्षा की तयारी  अब हम चलते है ,जय राम जी की

परीक्षा का कुछ दिन बाद छैलू  ब्यो मा शामिल हुण खुण घार चली ग्या  और कोटद्वार भटेय ब्वाडा  खुण  फ़ोन कार

छैलू   :  हेल्लो ब्वाडा जी ,नमस्कार , मी छैलू बोल्णु छोवं छैलू कोट्द्वार भटेय
ब्वाडा :  छैलू  बेट्टा  नमस्कार ,कब आणु छे तू घार बेट्टा
छैलू   :  ब्वाडा जी भोळ दिनम तक पहुँच जोलु ,ज़रा कुछ काम  से रुक्युं छोवं यख ,पर आप भोळ बाज़ार मा कै थेय भेजी दियां म्यार अदर ,ज़रा समान भंड्या सी च मी मा
ब्वाडा : अच्छी बात बेट्टा तू चिंता नि कैर मी सब प्रबंध कैरी द्युल        
छैलू   : ठीक च ब्वाडा जी अच्छी बात तब ,नमस्कार

छैलू  ब्यखुंनि  मा गौं  का  बज्जार मा पहुँच जान्द और इन्ने-उनेह्य देख्णु रेंद की सायेद कुई अयूँ  व्हालू वेकि जग्वाल मा  ,पर वे थई कुई नि दिख्येन्दु बड़ी देर तक काफी देर बाद वे थेय शंकरु च्चा कु नौनु दीपू  दिख्येन्द

 छैलू   :  भुल्ला ,ओ भुल्ला
दीपू    : अरे भेज्जी ,क्या हाल हैं आपके ?कब आये आप ?
छैलू    : भुल्ला बस सब राजी ख़ुशी ,तू सुणा कन्न चलणी  चा तेरी पढैय -लिखैयी  , त्वे थेय ब्वाडा जी  कु भेज्युं व्होलू मेरी अदर हैं ?
दीपू :    अरे भेज्जी किल्लेय  मजाक उड़ाणा छोव ९ फेल आदमी की  यार ,पढई थेय छोड़या कत्गा ही साल व्हेय ग्यीं ,अरे न भाई,कै  ब्वाडा की बात कन्ना छोव तुम ? मी त कोट्द्वार लग्गू बाल बणवाण खुण भई, क्या च की यु सलीम  ज़रा ठीक से नी बणादु , असलम भोत अछू कट्टिंग करद , हाँ  ज़रा महंगू ज़रूर  च १०० रुपया ,उफ्फार डूटियाल खड़ा हुन्या छीं,उन्थेय पूछा ,ब्वाडा कु पक्का उन्मा बोलूं व्हालू ?अज्काळ सब काम यी त कन्ना छीं उन् भी पहाड़ मा , अच्छी बात तब होली मुलाकात फिर

बस इत्गा  बोलिकी दीपू सर हवा व्हेय ग्या वम भट्टेय

छैलू  ल  भी  अपडू  बाकी समान गौं का क़ाका  की दुक्कान मा धार और एक अट्टेची लेकि गौं की उकाल जनेय पैट्टी गया

खड़ी उक्काल कटणा का बाद जब वू  सैणा- तिरछा बाटों से व्हेय की एक गौं का नजदीक पौंहुंच त देयाख की एक लम्बू चौडू फांग  मा भारी भीड़ कट्ठा हुयीं छाई,नौनौं की भीड़ क्रिकेट का मैच मा मस्त हुयीं छाई,छैलू ल एक नौना थेय पूछ

छैलू : क्या बात भुल्ला ,बड़ी भीड़ चा आज मैच मा ? कुछ खास बात ?
नौनु : भेज्जी क्रिकेट टूर्नामेंट चलणु च १० दिन भटेय ,रोज इन्नी भीड़ रेंद अज्काळ ,हर मैच मा एक बुखट्या  इनाम  भी त चा और फिर आज त आखरी मैच च

छैलू : पर भुल्ला अज्काळ त  यु परीक्षा कु टेम च ना ?
नौनु : भेज्जी परीक्षा त हर साल हुणि ही रेंद ,इन्नु  टूर्नामेंट हर साल कक्ख  हुन्द  ? और उन भी आप थेय ले क्या फटीं चा ?

छैलू अप्डू सी मुख लेकि सड़म-सड़म  एथिर बढ़ी  ग्या 

गौं का नजदीक रगड़ मा एक चक-डाम बणणु छाई और लगभग २५- ३० डूटियाल और बिहरी मजदूर काम मा जुटयाँ छाई |

जन जन छैलू गौं का नजदीक जाणु छाई  उन् उन् वेकि सांस तेज हुंदा जाणि छाई  आखिर आज कत्गा सालुं का बाद वे थेय यु दिन देखणा खुण जू मिलूंण वालू छाई  जैकी वू बरसो भट्टी बाट देख्णु छाई ,खैर छैलू आखिर अपड़ा गौं मा पहुँच ग्या  ,हत्थ-मुख ध्वेकी ,च्या पेकि ,बोड़ी-ब्वाडा और भेई-बहन्णो दगडी थोडा इन्नेय -फुन्डेय की छुईं-बत्ता लग्गा की  खाणा खैकी वू चुप-चाप आराम से सेए  ग्या , आखिर  ब्यो  मा  १५ दिन जू बच्यां छाई अब्भी |


हेंक दिन उठद चोट ही वेल ब्वाडा थेय पूछ  - ब्वाडा जी ब्यो खुण लखुड त आप लोगों  ल फाड़ ही याला   होला  ?
ब्वाडा  : बेट्टा तू भी कै जमाना की बात छैयी कन्नू ,लखुड -वखुड कुई नी फडूद अब कैका फ्री मा अज्काळ  , रोज चार बोतल कैल कन्नी खर्च और वेक बाद कैल बोगंण एहसान अलग से यूँ लोगों कु  | गौं वलों  थेय  ले क्या फटीं चा लखुड फड्ना की हमरा  ? मिळ त ६००० रुपया मा नज़िमबाद वाला ठेकदार म फड्वा यलि लखुड पिछिल मैना ही छुचा  |

तबरी दिल्लू काका आ ग्यीं और ब्वाडा खुण ब्वाल -    प्रधान जी स्कूल मा आज मीटिंग च , टक्क लगा की पहुँच ज्यां आप और  बेट्टा छैलू तू भी आ ज्यी दगड मा भेज्जी का       

स्कूल मा सरय गौं की मीटिंग छाई हुन्णी ,और मीटिंग कु विषय छाई  " गौं कु स्कूल  थेय बंद करे जाव की ना  "
स्कूल की पूर्व मास्टरणी कमला बहनजी  ल मीटिंग की शुरुवात कैरी
बहनजी : भई बंधो ,जन की आप थेय पता ही च की आज म्यारु स्कूल मा आखिरी दिन च ,पिछल तीन महिना पहली मिथेई रूडकी मा ट्रांसफर मिली ग्ये,हालाकि पिछला कुछ ८ साल ये  गौं मा मेरी जिंदगी का सबसे अच्छा साल रहीं पर अब आप  सभी से दूर जाणाकु बगत सैद  आ ग्या ,आज हमल यु फैसला करण  की म्यार बाद और दुसुरु मास्टर आण तक स्कूल कन कै की चलाण ?

बहनजी की बात अभि पूरी भी नी व्हेय छाई की लुहार दाजी खड़ा व्हेय ग्यीं

लुहार दाजी : स्कूल त उन् भी पिछला द्वि महिना से बंद ही हन्यु चा ,बिचरा नौना बाला जरुर कुछ दिन घार भटेय  स्कूल और स्कूल भटेय घार  उब्ब -उन्दू ही  कन्ना रयें पर अब त उन खुण  भी चुकापट  सी व्हेय गया और वू भी गिन्दू  खिलंण  मा  मस्त हुन्या छी |

 बहनजी : ब्वाडा मिळ भी अब क्या कन, आखिर मेरी भी त कुटुंब-दरी च ,म्यार भी नौना- बाला स्कूलया हवे ग्यीं अब ,मि भी चाहंदु  की वू इंग्लिश मीडियम स्कूल मा पढ़याँ और भोळ पढ़ी- लेखी की बड़ा आदिम बणया ,और ट्रांसफर त आप सभी थेय पता च ना कद्गा मुश्किल से मिळ ,पिछला चार साल से चप्पल घिसणा  का बाद अब जाकी कखि आर्डर मिलीं वू भी "गांधी जी की हरयाली " की मदद से | मेरी त या  सलाह च की आप लोग न्य मास्टर जी का आण तक कुछ वैकल्पिक व्यवस्था कैरी ल्यवा , स्कूल भी चलदा रालू और बच्चों की पढैय  भी | मिळ ये  गौं मा अप्ड़ी नौकुरी शुरु कैरी छैयी इलेय एत्गा कोशिस कनु छोवं नाथिर मिथेई ले  क्या प्व़डी  च ,हम त सरकरी आदिम छोव हम्थेय क्या  फटीं च  ?

बहनजी ल  ब्वालू ही छाई की पट्वनी बोड़ी उत्डेय ग्या
पट्वनी बोड़ी :  द भुल्ली जब तुम्थेय नी फिकर च त मि थेय भी क्या  भारी फटीं च ? जन भटेय म्यार ही नाती-नतिण आणा व्हाला दिल्ली भटेय पढ़णा खुण इन्ही स्कूल मा ?

रामदास औजी : बोड़ी या ज़रा हमारू भी ख्याल कैरी दी, स्कूल बंद व्हालू त कक्ख जाण हमरा  नौनु ल और क्या हूँण  उन्कू ?
ब्वाडा जी       :  भई म्यार ख्याल से ,या  स्कूल अब भगवान का ही सहारा फर  च ,जब तक न्य मास्टर नी आन्दु स्कूल बंद ही करण प्वाडली  सैद

छैलू   : वाह ,वाह ,बहोत खूब ,कत्गा समझदार  लोग छोव आप ,सब स्कूल बंद करवांण  फर तुल्याँ छोव ,जत्गा आसान हुन्द यु बोलणु की 
" बंद कैरी द्यावा " खोलूंण उत्गा ही मुश्किल हुन्द | क्या आप सब लोग मिलजुली की महिना का हज़ार -द्वि हज्जार  रुपया भी कट्ठा नी कैरी  सकदा  इंह स्कूल का बाना एक  वैकल्पिक मास्टर की व्यवस्था खुण ?

छैलू   ल  इत्गा ब्वालू ही छाई की तब्भी झबरी  बो मडकै ग्याई

झबरी  बो  : दे रे छैलू   तू भी क्या बात कनु छैयी ?  जब हमरा  नौना बाला पढना ही नी छीं इंह स्कूल मा त हमल किल्लेय दिन्णी महिना का सौ - पच्चास रुपया सुदी -मुदी  बर्बाद कना खुण ? देय बोई हम थेय ले क्या फटीं चा बिगेर बाताकि ? अगर त्वे थेय इत्गा ही फिकर च त तू किल्लेय  नी आ जांदू घार मा मास्टर बणी की  ? उन् त त्वे भी क्या फटीं च छुचा,तू त उन भी द्वि दिन कु महेमान छेई गौं मा | 

खैर साहब अब मीटिंग मा त कुछ हूण वलू नी छाई ,उन् भी मीटिंग कु विषय " गौं कु स्कूल  थेय बंद करे जाव की ना  " छाई जू की   स्कूल बंद करण खुण ही छाई ना की बचाण खुण | खैर मीटिंग सदनी हुन्दी पर काम त कम ही  हुन्दु ,संसद मा त अज्काळ मीटिंग भी नी हुन्दी ,कम से कम ये गौं मा मीटिंग त हुणी च |

हैंक दिन जब  छैलू गौं मा घुमंण -मिलण कु  तैल ख्वाल ग्याई त देयाख की सरय गौं पीला चोंगा वाला एक बाबा का समिण हत्थ जोड़ीक बैठयूँ  छाई और बाबा उन्कू भाग्य इन् बच्णु छाई जन भगवान जिल वे थेय  ये ही काम खुण गौं मा भेजू  व्हालू |

 झबरी बो अप्डू नौना कु हत्थ दिखाणी   छाई वे बगत

जोगी बाबा : माई त्यार  नौना का भाग्य त तडतूडू  चा ,येल अग्नेय जाकी सरय गौं कु नाम रोशन कन्न
झबरी बो    : बाबा क्या ब्बत कन्ना छोव  आप ? तीन बार दस मा फेल व्हये ग्या ,दारू ,भंग्लू  कु भी ऐबी व्हये ग्या और आप बुना छोव की गौं कु नाम रोशन करण ?
पट्वनी  बोड़ी : ब्वारी याँ  मि भी त गौं कु नाम रोशन ही हुणु  च  (बोड़ी ल बो थेय चुग्न्या की बोली )    
जोगी बाबा : माई नौना फर शनि  की भारी दशा च ,यांक वजह से बण्या -बण्या  काम बिगड़ना छीं ,नथिर अब तक तक येल दस पास करिकी पलटन मा हुणु  छाई और सायेद अब तक त तिल  नाती-नतिण दगड़ हेस्णु-खेल्णु छाई,पर माई येकू  भलु कैर ,तू ब्वे छेई ब्वे वेकि ,ये  साल त्यार नौनु फर भारी  प्राण-घातक विपदा आ सकद |

सुणी की बो का हत्थ खुट्टा फुल्ली ग्यीं और द्वी घडी  खुण वा जम-ख़म  सी व्हेय ग्या ,आखिर यु वींकी यकुली आस-औलाद कु सवाल जू  छाई |

झबरी बो    : बाबा तुम खुण हत्थ छीं जोड्यां,कुछ उपाय कैरो ,नथिर मेरी त सब कैरी - कमई  उन्दू जुगा हूण
जोगी बाबा : माई ,जिकुडी  ना  जला, थोडा खर्चा होलू पर संकट सदनी खुण मिट जालू
झबरी बो    : बाबा रुपया -पैसा कु  क्या कन्न ?कैक कपाल फर लगांण उ पैसा जब  आस -औलाद ही सुखी नी रैली

जोगी बाबा : ठीक च माई तीन हज़ार रुपया ल्गला  पूजा -पाठ मा ,आण वालू शनिचर खुण करुलू येकी ग्रह -पूजा,फ़िलहाल पूजा का समान खून तू  २ हज्जार रुपया देय देय ,बाकी पूजा का बाद दे देये |

 झबरी बो पैसा लीना खुण भीतिर गाई ,त छैलू ल बो थेय समझाणा की भोत कोशिश कैरी की बो यु आप्थेय ठगणु चा,ठग्गू  चा  ठग्गू ,
पर बो थेय कख समझ  मा आणि छाई छैलू  की कुई बात ,वीन्ल छैलू  मा ब्वाल

झबरी बो : छैलू जै फर  बितिदी च ना ,पीड़ा कु अहसास  भी वे थेय ही हुन्द ,तिल क्या जणण ?आखिर त्वे थेय फटीं भी क्या च ये  बार मा चिंता कन्ना की ?

खैर छैलू अब बोल भी क्या सकदु छाई ,वू त क्या अब सरय गौं अगिल शनिचर बार कु इंतजार कनु  छाई,जू की अपड टेम फर आ भी च ,पर जोगी ? वैल आखिर आणु भी किल्लेय छाई ? उन् भी ग्रह त उ पूजी ग्या छाई ,बो का नौना का न सही  कम से कम अपड़ा त पूजी ग्या छाई ना ?

ब्यखुंन बगत  छैलू अपड़ा बोड़ी -ब्वाडा दगडी छ्वीं-बत्ता लगाणु छाई ब्यो का बार मा

छैलू : ब्वाडा पतुला और खाण -पीण और औजी कु प्रबंध- निमंत्रण व्हेय गै क्या ?
ब्वाडा जी : म्यार छैलू बेट्टा तू कै ज़माना मा रेंदी और बात कै ज़माना की कन्नू छैयी ? बेट्टा अब पतुलू मा कु खान्द खाणा गौं मा ? और खाणा पकाण खुण आणा त छीं कारीगर कोट्द्वार भटेय ,बैंड भी आणा छीं गुमखाल व्ला  "सुलेमान " का , राहि  अपड़ा औजियुं की बात त वू त उन् भी आही जाला ढोल दमौं कान्धिम धेरिक ,एक बार बोली याल हमल ,अब क्या फटीं  च बार बार औजियुं खुण हत्थ जोडणाकि  हम्थेय ?

छैलू : पर ब्वाडा जी ,हमरी संस्कृति ,हमरा रीती-रिवाज ,हमरू प्यार- प्रेम
छैलू ल अप्ड़ी बात पूरी कैरी भी नी छाई  कि ब्वाडा  अन्गरौं कु पेतण सी भिनभिनाण  लग्गी ग्या

 ब्वाडा जी : छैलू ,मि देख्णु छोव अज्काळ त्वे थेय ,तू  भंड्या ही शास्त्र झडणु छैयी,आखिर क्या चाह्णु छैयी तू बेट्टा,साफ़ साफ़ बता देय


 छैलू :  ब्वाडा जी मि त बस गौं कि सबही समस्याओं कु समाधान चाह्णु छोवं ,बस और क्या ?अप्ड़ी बोली भाषा,अप्ड़ी संस्कृति ,अपड़ा रीती- रिवाज और गौं कु व्हि प्यार -प्रेम और मेल-मिलाप बस और कुछ ना  |

ब्वाडा जी : पर बेट्टा इन्न त बत्ता कि आखिर त्वे थेय क्या प्व़डी चा गौं कि ,गौं कि बोली भाषा, संस्कृति और  रीती- रिवाज की ? तू बस अपड़ा काम मा मन्न लगा और जल्दी से बडू डॉक्टर बनिक अप्डू घार परिवार बसा कक्खी ,ये  गौं का चक्कर मा ना ही पोड त अच्छु रालू त्वे खुण और आखिर त्वे थेय फटीं भी क्या चा ?

खैर ब्वाडा का नौना कु ब्यो भी व्हेय कुछ ग्या दिन बाद,पैसा रुपया खूब खर्च  व्हाई ,पर ठेठ गढ़वाली ब्यो की दूर दूर तक रस्याण नी छेई ब्यो मा ,और आखिर हूण भी कनु कै  छेई सब कुछ त नज़िमबाद ,कोट्द्वार, गुमखाल और नेपाल ब्रांड काम हुणु  छाई |

ब्यो का कुछ दिन बाद छैलू  कुछ ख़ास काम से कोट्द्वार चली ग्या और लगभग ८ -१० दिन तक वेय्की गौं मा कुई खबर नी छाई ,बोड़ी ल ब्वाडा थेय जत्गा गाली दिणि छेई सब दि याल छाई ,ब्वाडा खुण भी अब उकताट सी व्ह्युं छाई की जवाँ नौनु झणी कक्खी मेरी बात कु बुरु त नी मानी ग्ये व्होलू ? ब्वाडा और बोड़ी का मन मा बुरा -बुरा ख्याल  रैह-रैह की आणा रें |
 
 कुछ दिन बाद जब छैलू गौं मा वापिस आयी त वू यखुली  नी आयी दगड़ मा ल्याई एक खुश  खबर सरय गौं खुण,जी हाँ छैलू महाराज पिछला दस बारह दिन मा ब्लाक स्तर से जिल्ला स्तर और फिर मंडल मुख्यालय का बाद सीधा शिक्षा-मंत्री और मुख्यमंत्री से मुलाक़ात  कैरी की गौं का स्कूल खुण एक स्थाई   मास्टर की तुरंत पोस्टिंग का आदेश ले की जू आ गेय  छाई | पर आखिर इन्न क्या कार छैलू की चट-चटाक से काम बणी ग्या ,सरय गौं का लोग अब या ही  बात कन्ना छाई ?

पट्वनी बोड़ी  आखिर पूछ ही द्याई

पट्वनी  बोड़ी :बेट्टा छैलू आखिर तिल इन्न क्या जादू कार पौड़ी और देहरादून जाकी ,छुचा ज़रा बता त सही ?

छैलू खामोश ही राहि और वेल अपड़ा थैला  म भटेय सर एक अखबार  निकालिकी ब्वाडा जनेय  सरका द्या 
ब्वाडा जी :  अखिल भारतीय चिकित्सा संस्थान दिल्ली के छात्र शैलेन्द्र सिंह को मिली हॉवर्ड की प्रतिष्ठित छात्रवृति , चिकित्सा परीक्षा मा अखिल भारत स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त किया ,सूबे के मुख्यमंत्री ने दी हार्दिक बधाई ,कहा " शैलेन्द्र प्रदेश का ही नहीं अपितु भारत का गौरव है "

बस फिर क्या छाई ,सब थेय समझ  मा आयी ग्या की छैलू ल आज अपड़ा वर्षो की मेहनत का बल फर प्राप्त सफलता का बाबजूद भी आखिर किल्लेय गौं का बार मा सोच ?
अचाणचक  से धीरे-धीरे  गौं कु माहौल मा छैलू ल  एक अच्छु सी बदलाव महसूस कनु छाई और दगड़ा-दगड़  मन ही मन मा एक अजीब सी ख़ुशी भी |
कुछ दिन बाद छैलू  गौं मा सब से मिलिकी वापिस जाण खुण पैटणु छाई ,पर झणि किल्लेय वैथे इन्न लग्णु छाई की कु कुछ छूटणु सी चा ,कक्खी कुछ टूटणु सी चा ?

सब थेय सेवा -सौन्ली बोलिकी  आखिर वेल अपड़ी अट्टेची हाथ मा पकड़ और घार से  निकल त द्याख की समणी  दीपू  मुलमुल हेस्णु छाई |

दीपू : भेज्जी  माफ़ कैर दियां,  वे दिन सैण  मा  खुण  मि भोत शर्मिन्दा छोवं ,पर आज मिळ आप्थेय बाज़ार तक ना सिर्फ छोड्की आण बल्कि गाडी मा बिठा की भी आण
इत्गा बोलिकी दीपू ल  छैलू   कु हत्थ  से अट्टेची  भी थाम द्या
कुछ दूर तक धार मा जाणक बाद छैलू ल दीपू थेय समझा-बुझय की वापिस गौं भेज द्या |

आज सरय गौं मा एक अजीब सी माहौल लग्णु छाई ,सब्थेय झणि किल्लेय इन्न लग्णु छाई की  काश छैलू बोडिक वापस आ जांदू त गौं असल मा इक गौं बण जांदू ?
पर फिर सब यी सोची की अपड मन थेय तसल्ली दिणा रेंह की आखिर वेल किल्लेय  आण ? वे थेय इन्न ले क्या फटीं च गौं की और गौं वलों की ?
सबसे ज्यादा बोड़ी -ब्वाडा ,झबरी बो और पट्वनी बोड़ी का मन मा घपरोल हुणु छाई |
सभी लोग अभि सोच मा ही हरच्यां छाई की दीपू ल ब्वाल  
दीपू : भेज्जी कुछ ख़ास समान भूल ग्यीं सैद ,तभी वापिस आणा छीं उफार या ?अट्टेची  भी नी च दगडी मा ?
 झबरी बो : हाँ लग्णु त कुछ कुछ एन्नी च मिथेय भी ?
जन्ही छैलू गौं मा पहुँच ब्वाडा ल पूछ - क्या बात बेट्टा ? कुछ छुट गया क्या घार मा ?
छैलू : ब्वाडा जी ,मिळ फैसला कैरी याल की मिळ अब  हॉवर्ड नी जाणु ,और अब यक्खी रेंण पहाड़ मा अपड़ा घार गौं का नजदीक  ,अपड़ा ही लोगूँ का बीच मा ,अगर हम ही पहाड़ थेय  छोड़ी द्युन्ला त कैल रैंण फिर यक्ख,आखिर कै थे क्या फटीं  च यक्ख रैणा की फिर ?

ब्वाडा ल इत्गा सुणीक छैलू फर अंग्वाल बोट्टी द्या |

सैद छैलू "क्या फटीं च " ? कु सही मतलब अब समझ ग्या छाई ? और सैद ब्वाडा भी और गौं का बाकी लोग भी और सैद हम सब्भी थेय भी ?


लेखक : गीतेश सिंह नेगी ,सिंगापूर प्रवास से ,सर्वाधिकार सुरक्षित

No comments:

Post a Comment